कसक

दिल में कसक जगी है
तू मेरे पास नहीं है
मुझे समय वो याद आता
जो तेरे संग बिताया
वो हँसना और खिलखिलाना
कभी रूठना , मनाना
तू है ‘अनुज’ मेरा
ठंडी छांव का बसेरा
जाने ये कौन आया
छिना मुझसे मेरा साया

Advertisements