काश……

माटी कहे कुम्हार से,
देना मुझको वो रूप,
जो खुशियाँ बन खिल जाये,
उसके जीवन में,जो मुझे है अनमोल…..

******************

मैंने जुटाया है अपनी मौत का सामान,
खुद अपने हाथो से….
बस इंतजार अब उसके काँधे का है……!!

********************

आँखों ने ख्वाब देखा , बस उसके साथ का,
दिल तड़फ क्र रोया , जब वो पटल गया…!!

**********************

अकेला छोड़ता है ना साथ चलता है…
वो शख्स जाने मुझसे क्या चाहता है…

Advertisements

2 thoughts on “काश……

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s